चमन-बहार ?

Chaman Bahar Movie Review | Chaman Bahar Netflix Review

ओटीटी पर रिलीज चमन-बहार – 19 जून की रात 12 बजे फिल्म नेटफ्लिक्स पर आई 

लेखक और निर्देशक – अपूर्व धर बड़गियन (Apurv Dhar Badgaiyann)

चमन- बहार के मुख्य पात्र 

बिल्लू – जितेंद्र कुमार

रिंकू – रितिका बदियानी

शैला भैया – आलम खान

सोमू – भुवन अरोरा

छोटू – धीरेन्द्र तिवारी

आशु भैया -अश्वनी कुमार

कहानी 

बिल्लू के पिताजी चाहतें है कि वन विभाग में चौकीदारी को अगली पीड़ी को दे दिया जाए|क्योंकि अब लड़का कमाने लायक हो गया है घर में चार पैसे ज़्यादा आयें|इसी के चलते रात की चौकीदारी पर बिल्लू को लगा दिया जाता है लेकिन वहाँ कुछ हो जाता है जिसके चलते वो नोकरी छोड़ देता है|और साथ ही बिल्लू गाँव में अपना नाम भी करना चाहता है जिसके लिए एक पान की दुकान खोल लेता है  जिसका नाम रखा जाता है चमन-बहार|दुकान ऐसी जगह है जहां मक्खी और गाँव के कुत्तों के अलावा कोई नहीं भटकता|

Chaman Bahaar (2020) Netflix Review: A Docile Paanwala To An ...
 

चमन-बहार 

 

रिंकू दुकान के सामने वले घर में रहने आती है सड़क के इस पार बिल्लू पनवाड़ी है। उसका आना बहार ले आता है मौसम वाली नहीं गाँव के लफ़ंडरों वाली बहार या ज्वार भाटा कहना ठीक होगा जो रिंकू के आने-जाने से आता जाता है|और रिंकू को बार-बार देखने के लिए दुकान पर जमघट लगाएं बैठे रहतें हैं|साधारण परिस्थितियों में जब एक अनार और 100 बीमार होते है तो अनार को पता होता है कि उसके सो बीमार हैं और उन 100 में से कोई एक तो अनार मिलता ही है| विद्यालय के लड़कों से लेकर अध्यापक और गाँव के युवा नेता से लेकर वन विभाग के अफसर का लड़का भी उसी के पीछे पड़ा है गाँव का ट्रेंडिंग क्रश दिखाया गया है रिंकू को|

This slideshow requires JavaScript.

मुहावरा है 2 बिल्लियों कि लड़ाई में फायदा हमेशा बंदर का होता है तो हमारे छोटू और सोमू है बंदर जो फायदा उठा रहें हैं लेकिन बिल्लियाँ 2 से अधिक है बहुत सी जगह दोस्तों को यार यार करके संबोधित किया जाता है लेकिन यहाँ डैडी बोला गया है जो इनके वार्तालाप को और मनोरंजक बनाता है|बिल्लू के रिंकू के प्यार में पड़ने के बाद आता है कहानी में मोड़ आता है , आशु भईया और शैला भैया की दुश्मनी भी मनोरंजक है |फिल्म में पान की दुकान एक्स्प्रेस रेल से भी तेज रफ़्तार में छिछोरों का अड्डा बन जाती है जिसमें मनोरंजन के लिए केरम बोट रख दिया जाता है जो अपने आप में एक कांड था| बिल्लू उसकी चमन – बहार को छिछोरी का अड्डा बनने से रोकने कोशिश करता है लेकिन फिर वो भी इस रोग का शिकार हो ही जाता है और कांड कर बैठता है और अंत में सबसे बड़ा बम भी उस पर ही फूटता है|फिल्म में एक बाबा है जिनसे बिल्लू को समझ आता है कि वो रिंकू के प्यार में है | चमन बहार  6 गाने है जिन्हे कहानी की ही भाषा में लिखा गया है |

vlcsnap-2020-06-19-12h13m52s241
सोमू और छोटू नई तरकीब लगते हुए 
Chaman Bahaar Review: Jitendra Kumar's impeccable act is the high ...
दरोगा बिल्लू को पीटते हुए 

बड़े शहरों के विपरीत ये कहानी हमें बहुत कुछ अलग दिखाती है, भाषा का खास ध्यान रखा गया है | अगर आप  गाँव से है तो यह आपको अपने गाँव की याद दिला देगी|फिल्म में रिंकू का एक भी डायलॉग नहीं है | रिंकू के आस- पास घूमती कहानी में रिंकू का ही पात्र ही सबसे कम दिखता है |अब प्रश्न हैं बिल्लू ने नौकरी क्यू छोड़ी, रिंकू किसे मिली,आशु और शैला की दुश्मनी कहाँ तक गई , छोटू और सोमू ने किस किस का फायदा उठाया और हमारे बिल्लू और चमन-बाहर का क्या हुआ ? जिसके लिए आपको ये फिल्म देखनी पड़ेगी, जिससे इन सवालों के उत्तर मिल सकें|  

Published by CHHAYA GAUTAM'S BLOGS.....

Namaste 🙏 Welcome 🤗 Bhartiye-Delhite Writing is mine habit. Wana talk ..? Twitter- chhaya gautam

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website at WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: